बीवी और टीवी

भाइयों और…. सिर्फ भाइयों क्यों की आज में केवल अपने भाइयों के साथ बात करने आया हूँ । अभी देखिये क्या है ना… हमने जो अभी ये बहुत सारे नए नियम बनाए, आधार कार्ड बैंक खाते से लिंक करवाया, 500 और 1000 का नोट्स बैन करवाया, तो अभी मोदी के पास बहुत सारे पतियों का निवेदन आ रहा है की हम ये जो टेलीविज़न पे सीरियल्स आ रहे हैं उसको भी बंद करवाएं ।

देखिये अभी यह जो टीवी सिरिअल्स आ रहे हैं… ये नागिन, संध्या बिंधनी, पार्वती, तुलसी… छोडो तुलसी को.. वह तो अभी हमारे परिवार में आ गयी है…. हाँ तो मैं ये बोल रहा था की बाकि यह सब अक्षरा, गोपी बहु, जो भी हैं वह तब से टीवी पे आ रही हैं जब मैं खाकी का हाफ पैन्ट्स पहनके ब्यायाम करता था । और अभी मुझे लगता है वह सिरिअल्स 2 लाख – 3 लाख एपिसोड्स तक भी पहुँच गए होंगे। लेकिन मैं अपने इन शादीशुदा मित्रों से ये पूछना चाहूंगा की मित्रों… आपको इन सीरियलों से क्या तकलीफ है??? आप इन मासूम सीरियलों को क्यों खतरे के मुँह में डालना चाहते हैं???

जब आपकी पत्नियां शाम को अपना सब काम ख़तम करके 7 बजे से 12 बजे तक इन सीरिअल्स में मगन हो जाती हैं तो आप सबको भी तो 5 घंटे के झिकझिक से आराम मिल जाता है ना !!! ऑफिस से दिनभर बॉस की गलियोंसे पकने के बाद यही समय ही तो मिलता है आपको अपने जीवन का परम आनंद उठाने के लिए । आप रोज़ इसी पांच घंटो में फेसबुक में हीरो बनते हो, ट्विटर में जज बनते हो, व्हाट्सएप्प में मेरे ऊपर बनाये गए अनगिनत जोक्स और फोटो को फारवर्ड करते हो । और मेरे जासूसों ने तो यहाँ तक कहा है की मेरे कुछ मित्र शादीशुदा होने के वावजूद टिंडर का लुफ्त भी उठा रहे हैं ।

अब आप ही बताईये जीवन का इतना आनंद आपको मिल रहा है किस लिए?? बोलिए बोलिए.. किस लिए? उन्ही टीवी सीरियलों के वजह से ही ना?? और उसको भी अगर ये मोदी बंदकर देता है तो आप ही सोचिए उस 5 घंटे में रोज़ आपके साथ क्या क्या हो सकता है!! अभी देखिये मैं तो सन्यासी आदमी हूँ । मेरे साथ ये सब कुछ होनेवाला है नहीं । परन्तु मित्रों… इस देश के प्रधानमंत्री होने के नाते मैं आप सबके लिए बहुत चिंतित हूँ ।

अभी आप ही मुझे यह बताइये की अगर मोदी ये सिरिअल्स बंद करवा देता है तो क्या आप इन पांच घंटे आपके माँ बाप की बुराई, आपके पुरे खानदान की बुराई, आपके हर एक दोस्त की बुराई और पुरे मोहल्लेवालों की बुराई सुन सकते हैं? क्या आप हर रोज शाम को पांच घंटे के लिए ‘आपकी बीवी कैसे अपने घर में राजकुमारी थी और आपके घर में आके एक नौकरानी बन गयी है’ यह इलज़ाम सुन सकते हैं? क्या आप हर शाम पांच घंटे के लिए ‘आपकी बीवी के लिए कितने बड़े बड़े खानदान से अच्छे रिश्ते आये थे लेकिन उसकी फूटी किस्मत की उसकी शादी आपसे हो गयी’ ये ताने सुन सकते हैं?? क्या आप हर शाम पांच घंटे तक मिसेस शर्मा के बाल आपकी बीवी के बाल से ज्यादा काला क्यों है, मिसेस मेहरा की साड़ी आपके बीवी के साड़ी से ज्यादा सफ़ेद क्यों है और मिसेस खन्ना के बेटे का पोटी आपके बेटे के पोटी से ज्यादा पीला क्यों है, ये नकारात्मक सोच सुन सकते हैं?? सोचिए । सुन सकते हैं की नहीं? फिर से सोचिए । सुन सकते हैं की नहीं?

मित्रों, अगर इन सब प्रश्नों का उत्तर आपके लिए हाँ है तो मेरे सवा सौ करोड़ देशवासिओं की कसम, मैं आपको आज ये आश्वासन देता हूँ की मैं ये टीवी सीरियलों को यथाशीघ्र बंद करने का प्रवंधः करूंगा । परन्तु… अगर आपका उत्तर ना हैं दोस्तों… तो फिर  तैमूर का नया जोक्स आया है जाके शेयर कीजिए फेसबुक पर | अपनी श्रीमतियों को नागिन की हिस हिस सुनने दीजिये और इस मोदी पर बिश्वास रखके उसके मन की बात ऐसे ही सुनते रहिये। तो आज के लिए बस इतना ही । मैं जल्दी ही लौटूंगा मेरे विदेश भ्रमण से। तब तक के लिए नमस्ते |

जय हिन्द । भारत माता की जय । एकता कपूर की जय ।

Leave a Reply